Sunday, September 13, 2009

औरत की क्या हस्ती है?

औरत की क्या हस्ती है
चीज़ वो कितनी सस्ती है

कहीं वो दिल की रानी है
कहीं बस एक कहानी है

कितनी बेबस दिखती है
जब बाज़ार में बिकती है

कहीं वो दुर्गा माता है
इस संसार की दाता है

कहीं वो घर की दासी है
नदिया हो कर प्यासी है

सब के ताने सहती है
फिर भी वो चुप रहती है

सरस्वती का अवतार है वो
शिक्षा का भंडार है वो

किस्मत उसपे हंसती है
जब शिक्षा को तरसती है

क्या क्या ज़ुल्म वो सहती है
फिर भी हंसती रहती है

कहीं सजा यह पाती है
गर्भ में मारी जाती है

कहीं वो माता काली है
कहीं वो एक सवाली है

खाली हाथों आने पर
दान-दहेज़ ना लाने पर

ज़ुल्म ये ढाया जाता है
उसको जलाया जाता है

नीर नयन से बरसे हैं
वो मुस्कान को तरसे है

खुशियों को तरसती है
औरत की क्या हस्ती है॥

-- नीरा राजपाल
महत्वपूर्ण सूचना- इस मंच पर आने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया, बस जाने से पहले एक गुजारिश है साहब की- 'कुछ तो कहते जाइये जो याद आप हमको भी रहें, अच्छा नहीं तो बुरा सही पर कुछ तो लिखते जाइये। (टिप्पणी)

12 comments:

  1. पूरी रचना ही लाजवाब है
    कहीं वो दुर्गा माता है
    इस संसार की दाता है

    कहीं वो घर की दासी है
    नदिया हो कर प्यासी है
    सच कहा है औरत की हालत अभी भी नहीं बदली बहुत बहुत शुभकामनायें अब कलम उभर चुकी है

    ReplyDelete
  2. नई कलम परिवार.September 14, 2009 at 1:32 AM

    निर्मला जी, बस आपके आशीर्वाद की आवश्यकता थी वो भी पूरी हो गयी.

    ReplyDelete
  3. स्त्री के अलग अलग मोर्चों पर किये जा रहे संघर्ष को बयान करती कविता ...
    बेहतर भावाभिव्यक्ति ..!!

    ReplyDelete
  4. ज़ुल्म ये ढाया जाता है
    उसको जलाया जाता है
    बहुत खूब ...
    अति संवेदनशील ..वाह कहने का वक़्त ही नहीं मिलेगा ......गौर से पढिये तो सोचना शुरू कर देंगे
    बहुत सुन्दर रचना बधाई हो ....
    ये मेरी तरफ से एहतराम भरे लफ्ज़ जो मेरे दिल से बहार आने को बेताब है...
    दिल की नमी आँखों का पानी है औरत
    हर खुबसूरत घर की निशानी है औरत

    "नज़र"

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा लिखा है अपने...नारी के जीवन का सजीव चित्रण...
    लेखन के लिए शुभकामनाये..
    हिमांशु डबराल
    www.bebakbol.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. naari ki mahaan`taa ko darshaati hui
    aur naari ki upekshaa ko bhi bayaan karti hui
    kamyaab aur lagbhag sampoorn rachnaa

    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  7. ahsaas ki satah ko amal tak pahuncna zaroori hai. Kya achha ho ki mardon me is masle par ghaur-o-fikr shuru ho! Is nek kaam ko jari rakhiyega!
    Sheeba Aslam Fehmi

    ReplyDelete
  8. behatreen. gujarish hai likhte rahein. ye aag door talak ley jayegi......

    ReplyDelete
  9. KAVITA BHAWANTMAK HAI.NAARI KE JIWAN KE VIRODHABHASO KO ITNI KHUBSURTI SE SABDO KI MALA MEIN PIROYA GAYA HAI KI WO EK KATAKSH BAN JATI HAI.APKE SAHAS KI SRAHNA KARNA CHAUNGA.MAA SARASWATI APKI LEKHNI LO DHAR PRADAN KARE.AMIT KUMAR

    ReplyDelete
  10. aap sab ki aabhari hoon aapne itne ache shandon se saraya meri is rachna ko, aage bhi saath dete rahiyega itni guzarish karti hoon.

    nira rajpal

    ReplyDelete
  11. बहुत लाज़वाब .....कसम से
    औरत की क्या हस्ती है
    सारी जिंदगी बयाँ कर दी आपने इस कविता के ज़रिये
    बहुत सुन्दर .....ऐसे ही लिखते रहें

    ReplyDelete
  12. आपने लिखा...
    कुछ लोगों ने ही पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना दिनांक 22/03/2016 को पांच लिंकों का आनंद के
    अंक 249 पर लिंक की गयी है.... आप भी आयेगा.... प्रस्तुति पर टिप्पणियों का इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete